Total Pageviews

Saturday 1 August 2009

आवाज़


आवाज़

कहीं किसी बाग में
या मुहल्ले के पार्क में
हम देखते हैं
किसी फूल का खिलना
और खुश हो जाते हैं
अनायास

साँसों में भर जाती है उसकी गंध
हमारे मन को छू जाते हैं उसके रंग
और ऐसे ही किसी क्षण
हमें ये लगता है
कि फूल हमसे कुछ कह रहा है

मगर देख नहीं पाते
हम अपने भीतर
लगातार झरते जाना किसी फूल का
मह्सूस नहीं होती हमें उसकी उदासी
सुनाई नही देती उसकी करूण पुकार

तारकोल और पत्थरों के
इस शहर में रहते हुए
बाहर के शोर और धूल के
हम इतने आदी हो जाते हैं
कि सुन नहीं पाते
अपने भीतर
किसी फूल के टूटने
और बिखरते जाने की आवाज़

बरसों बाद
हमें याद आती है
अपने भीतर के उस फूल की
मगर तब फूल नहीं रहता वहाँ
न रह जाती है उसकी गंध
और न उसके रंग
और न रह जाती है
उसकी आवाज़
2002

मुकेश मानस
कापीराईट सुरक्षित

1 comment:

  1. बरसों बाद
    हमें याद आती है
    अपने भीतर के उस फूल की
    मगर तब फूल नहीं रहता वहाँ
    न रह जाती है उसकी गंध
    और न उसके रंग
    और न रह जाती है
    उसकी आवाज़
    कितनी सच्ची बात।

    ReplyDelete