Total Pageviews

Thursday, 4 March, 2010

फासिस्ट

फासिस्ट

मैंने कहा
गंगा गंगोत्री से निकलती है
उसे अपने इतिहास पर खतरा लगा
उसने मुझे मार दिया

मैंने कहा
श्रीराम दिल्ली में रिक्शा चलाते हैं
उसे अपने धरम पर खतरा लगा
उसने मुझे मार दिया

मैंने कहा
ईश्वर आदमी का दुश्मन है
उसे अपनी शिक्षा पर खतरा लगा
उसने मुझे मार दिया

मैंने कहा
हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई हैं
उसे अपनी नीति पर खतरा लगा
उसने मुझे मार दिया

मैंने बार-बार
उसका चेहरा उघाड़ा है
उसने बार-बार मुझे मारा है
दरअसल वो हत्यारा है

मुकेश मानस
1992,पतंग और चरखड़ी से
सर्वाधिकार सुरक्षित

No comments:

Post a Comment