Total Pageviews

Saturday 29 May 2010

जीना

कोई हंसी खेल नहीं है जीना
तुम्हें जीना होगा बेहद संजीदगी के साथ
और वह भी किसी मजबूरी के बगैर
और वह भी जब तुम्हें पता है जीना
सबसे खुबसूरत, सबसे सच्चा काम है


नाजिम हिकमत

No comments:

Post a Comment