Total Pageviews

Sunday, 20 June, 2010

हम हिन्दी वाले-2

हम हिन्दी वाले सिलेबस के मामले में इस बात के पीछे इतना क्यों पड़े रहते कि पूरे सिलेबस में क्रम रहना चाहिए। क्रम के चक्कर में आदिकाल, भक्तिकाल और रीतिकाल प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों के छ्क्के छुड़ा देते हैं। प्रथम वर्ष में ही साहित्य के प्रति वे उदासीन हो जाते है। क्यों नहीं सबसे ताजातरीन आधुनिक और दिलचस्प साहित्य पहले पढ़ाया जा सकता?

No comments:

Post a Comment