Total Pageviews

Thursday 3 June 2010

हम हिन्दी वाले-1

हर साल दिल्ली विश्व्विद्यालय से लगभग 5000 विद्यार्थी हिन्दी में ग्रेजुएट होते हैं। लेकिन बड़ी अजीब बात है कि उनमें से हर साल 50 भी हिन्दी साहित्य की पाठक संख्या में नहीं जुड़ते। तभी तो हिन्दी का बड़े से बड़ा प्रकाशक भी किसी किताब हद से हद 1000 से ज्यादा प्रतियाँ नहीं छापता। उस पर भी रोता रहता है। तीन साल बाद भी कहता के 500 कापी भी नहीं बिकीं। पता नहीं प्रकाशक ठीक या गलत? या क्या पता कहीं हमारे पढ़ाने में ही कोई खोट तो नहीं।

2 comments:

  1. Anonymous04 June, 2010

    Bhai mukesh hamari shikha ka hi dosh hai.Hindi vishya padhne aur padhane wale ki done ki ruchi sahitya main nahin hai.Padhanewala ko phir bhi dhoda dikhawa karna padta hai.Padhnewale ko digree lene ke baad iski jarurat bhi nahin padati.
    Yeh baat main is aadhar par kah raha haun hoshangabad main Eklavya ki itani acchi library hone ke baad bhi pichle 15 saalon mai maine koi hindi ke adhyapak ko library ki sadashyata lete nahin dekha.
    Yeh bhi yaad rakho budhe toton ko nahin sikhaya ja sakta.Bachpan se hi bacchon main padhne ke sanskar dalna padenge.aaj ke multy media aur angrejiparast mahaul main sambhav nahin lagta.
    mahesh

    ReplyDelete
  2. प्रिय महेश भाई
    सादर अभिवादन स्विकार करें। आप ने बहुत सही लिखा है।यही हाल यहाँ भी है। 4-5000 हज़र तो हिन्दी के अध्यापक ही हैं। मगर पढ़ने वाले शायद 500 भी ना हों और लिखने वाले तो ऊँगलियों पर गिने जा सकते हैं।

    ReplyDelete