Total Pageviews

Friday 18 June 2010

समन्दर-1

                                            फोटो: मुकेश मानस


मैं तो समुंदर को
छोड़ के आया था
पीछे बहुत
पर ये कैसे मेरे साथ
मेरे घर तक आ गया।
18-06-2010

1 comment:

  1. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete